Dreams

Tuesday, April 21, 2009

SUMMER OF 09 Copyright ©




"उफ़्फ़् ये गर्मी, हाय् रे गर्मी
उफ़्फ़् रे ट्रैफ़िक्, बाप् रे ट्रैफ़िक्
उफ़्फ़् रे धुआ, उफ़्फ़् रे दुनिया
डेन्गू, मलेरिआ ,और् चिकन्गुनिय
हाय् नीम्बु पानि, हाय् गन्ने क रस्
शिकन्जी,अम्बियान् और् त्हन्डी सिवैयान्
AC लाओ, cooler लगवाओ, fridge भी मन्ग्वाओ.
नही तो मै मैके चली !
तुम् रमाते रहो दुनि!

तो साहब्, ये थी फ़र्मयिश्,
इस साल की बेवक़्त गर्मी के साथ, धम्की
और हमारी आज़्मायिश!
हमने भी कमर कस ली,
अपना मुद्दा रखने कि ठःन् ली.


हमने कहा भाग्यवान
इतना ना हो परेशान
सब लेकर आता हु,
तुम्हारे आराम के लिये सब जुगाड लगाता हु
कहो तो कारखाना ही मन्गवा दू
या मौसम विभाग से गरमी ही बन्द करवा दू?
आजकल तो उनके पास सब चीज़ का switch है
मन मर्ज़ी बारिश करवाते है,
लोगो को बाढः मे डुबाते है
और फ़िर नेता, अभिनेता और news channel
सब मिलके कमाते है.
बेवक़्त् गरमी भी येह ही करवाते है
विदेशी थन्डाई का सामन आयट करने के चक्कर् मे
हमारी अर्थ व्यवस्था को ये ही आग लगाते है.


बस भी करो जी , तुम तो हर बात पे इस या उस विभाग को टोकते हो
मौसम भी कोइ चीज़ है जो कोइ बेच पाये.


अरे मैने कहा बेगम आजकल सब बिकाऊ है.
विदेश से मर्केटिन्ग सीख के आते है
और् विग्यपनो से हम तुमको एहसास दिलाते है
कि हुम कितने पिच्डे और वो कितने आगे है
और हम भी...
अल्लाह्, हनुमान और गण्पती पे,
Obama की जीत् का प्रसाद चढाते है I

चलो मै यू गया और यू आया
अब हम पहुचे भाइ बाज़ार
तपती धूप मे अपनी सईकल पे सवार
hirlpool hirlpool!
yes sir what can I do for you?
मैने कहा श्रीमान्, क्यु मज़ाक करते हो
विग्यापन तो इतने निकालते हो और दुकान पे आये ग्राहक
को बेवक़ूफ़ बनाते हो?
पहले तो यार अपने fridge से एक थन्डा गिलास पानी का पिलावओ
उसके बाद, उस ही fridge के featuresबतलओ,
फ़िर damage कितना होगा वो समझाओ.
आरे भाई ऱामू, " पानी " तो लाना
अभी लाया सर्,
मैने सोचा वाह् भई क्या सर्विस है,
विदेशी कम्पनी की T-shirt पहनके लोग तो भाई
तह्ज़ीब भी सीख गये...
10 मिनट बाद, रामू के गन्दे हाथो मे जकडा हुआ
एक चाये के cutmके जितने गिलास मे पानी आया,
प्यास से न मर जाये, हुम्ने जल्दस्जल्द् गटकाया,
चलो सिर् अब आपको no frost ,defrost और one minute ice दिखाता हु,
इसे कैसे operate करते है वो बतलाता हु.


sir,sir करके उसने सारे switch घुमये,
विदेश मे हुए research के सारे रन्ग दिखाये
हमने पूछा......" damage"?
sir only 1 with 4 zeroes ..
अरे कमाल करते हो... 1 लख मे तो आजकल "वो" गाडी दे रहा है
ऐस इसमे क्या है..
Sir foriegn से बन के आती है...
वाह् हम ही को...
चेन्नई मे बनाते हो, software बन्गलूरू मे
पुणे मे assemble करते हो और गुढ्गावा से marketing,
इटना बडा scam चलाते हो और foriegn foriegn चिल्लाते हो.
bargaining करना तो कोइ हम भरतीयो से सीखे..
हम भी अड् गये .
चलो एक् AC भी चाहिये... कितने मे बान्धोगे
cash दून्गा
वो भी नही हिच्किचाया..
सीधे 15 even का बिल बनाया
टेम्पो मे भी चढ्वाया ,
3 साल की warranty भी दिलवाया.
हम भाई खुश...
देवी को आज प्रसाद चढायेगे
और पूरी गरमी सेवा करवयेगे.
घर आते आते शाम भयी
सोचा आज तो lottery लग गयी

घर पहुचे खटखटाया
हम तो उन्हे गुस्से मे छोड् गये थे
वो तो भीगी बिल्ली की तरह हो गयी
न नज़रे मिलाइ न बात
शर्म से पानी
क्या हुअ बेगम्
मै तो ले आया, तुमहारा fridge और AC
अब तो मुस्कुराओ
और जलदी से भोग लगओ
टीका ज़रा आरम से लगाना
और आज से ठन्डाई के लुत्फ़् उठाना


मुझे क्षमा करे स्वामी
भारी भूल हो गयी
आपको तपती धूप मे भेजके
मै तो ग्लानी मे डूब गयी
क्या हुआ
अब हमारी भी सुन लो जी
AC , fridge सब मन्ग्वाया
तुम्हे नीचा दिखाया
पर ये नही याद दिलाया
कि बिज्ली नही आएगी
मुश्किल से 2 घन्टे अपनी शक्ल् दिखाएगी
उस विभाग मे तो सबसे ज़्यादा है corruption की आग
बिल भरो य ना भरो बिज्ली उतनी ही आयेगी
खेतो की सीन्चाई कि आड् मे पूरी गर्मि सढायेगी
हम तो मटके का ही पानी पी लेगे
वो कम से कम बाबू की तरह अकढ तो नही दिखाता
सरकरी दफ़्तर के जैसे घूस तो नही खाता
chilled ना सही, पर धोखा तो नही दे जाता
AC के बदले खस की टट्टिया लगवयेगे
वो बेचारी दरवाज़े पे टन्ग् जाति है
सरकरी वकीलो, डलालो कि तरह् एह्सान् तो नही जतती है


मै मन ही मन मुस्कुराया
फ़िर साजो-सामन वापिस करके आया
दो घडे, 3 खस की टट्टिया भी ले आया
और उनसे रात भर पखा करवाया


अब तो बस
बरसात का इन्त्ज़ार है
मौसम, बिजली और हर सरकारी विभाग से ये गुहार है
कि सब अपना है
इसे बेह्तर बनाओ
और हर गरमी, बरसात और जाढो को
सबके लिये आरामदेह् बनाओ.
घूस न खाओ,सिफ़रिश न लगाओ
बस इस देश को इस corruption के
cancer से मुक्त् करवाओ!

इस देश को इस corruption के
cancer से मुक्त् करवाओ!

3 comments:

Jaya said...

well done ............go on..................mr new shayar

Harmonical_contrast said...

bhaiya ... badhiya vyangya hai.....a step up to grihshobha manorama material ... sahi mein padh ke yaad aa gayi india ki ... good going Mr. vyangyakaar

nupur said...

well tried dude..u have the potential n can do it.jz kp blvng in yaslf..nutn cn stp ya thn...al d bst..