Dreams

Friday, January 14, 2011

धत तेरे की ! Copyright ©


हर बार ब्रह्मास्त्र उठाया अपना

पर गांडीव ही फिसल गया

प्रत्यंचा क्या चढ़ाएंगे

तरकस क्या संभालेंगे

लक्ष्य ही बदल गया

धत तेरे की


अथाह मरुस्थल के क्षितिज पर

मृग दिया दिखाई

दिल में उम्मीद जग आई

दौड़े उसकी ओर पूरे वेग से

पर मृगत्रिष्णा ही की अनुभूति हो पायी

धत तेरे की


परिंदों को उड़ते देख

मन में उड़ने की इच्छा उड़ आई

सोचा पंखों से क्या होगा

हौसले की है अपनी अंगडाई

पेंग लगायी

धूल ही धूल खायी

धत तेरे की


गहरे समुन्दर से मोती ले आने का

जोश भी जागा

हमने डुबकी लगाई

लहरों ने खेल खेला हमारे साथ

और बस केवल जल समाधि ही हो पायी

धत तेरे की


क्या यह सारे प्रयास और लक्ष्य

सारे ही सपने बेबुनियाद थे

या कल्पना के अश्वा बेलगाम थे

जो भी हो

हर बार यह ही आवाज़ निकली

धत तेरे की

धत तेरे की


कब तक ‘तेरे’ की धत करता रहूँगा

कब तक निराशा का रंग मढ़ता रहूँगा

कब तक डरता रहूँगा

पता नहीं

बस इतना पता है कि

अब गांडीव नहीं फिसलेगा

अब मृग प्रत्यक्ष दिखेगा

अब उड़ान होगी

ढूंढ लूँगा समंदर से मोती

दौड़ता रहूँगा जब तक हर इच्छा पूरी नहीं होती

जब तक नहीं पी लेता मदिरा सुनहरे सवेरे की

बोलना छोड़ नहीं देता

धत तेरे की

धत तेरे की

धत तेरे की!


4 comments:

यशवन्त माथुर said...


दिनांक 06/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
धन्यवाद!

“दर्द की तुकबंदी...हलचल का रविवार विशेषांक....रचनाकार...रविकर जी”

यशवन्त माथुर said...

एक निवेदन
कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
Login-Dashboard-settings-comments-show word verification (NO)

अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
http://www.youtube.com/watch?v=L0nCfXRY5dk

धन्यवाद!

Rohitas ghorela said...

bahut achcha likha hai :)

recent poem : मायने बदल गऐ

Prakash Jain said...

जब तक नहीं पी लेता मदिरा सुनहरे सवेरे की

बोलना छोड़ नहीं देता

धत तेरे की


Waahm bahut sundar:-)